Monday, 14 August 2017

भाई के सामने बहन की ग्रुप में चुदाई

मैं राज गर्ग एक बार फिर से हाज़िर हूँ नई कहानी लेकर जिसमें भाई ने बहन को चोदा!

दोस्तो, माफी चाहूँगा स्टोरी देर से लिखने के लिए… आपको तो पता है आजकल टाइम निकलना कितनी बड़ी बात है.
अभी मैं आपको अपनी एक नई स्टोरी के साथ!

जैसा कि आप सभी जानते हो कि मेरा वाइफ स्वैपिंग क्लब है जिसमें बहुत सारे कपल हैं जो वाइफ स्वैपिंग का मज़ा लेते हैं. आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
कुंवारी चूत चुदाई का आनन्दमयी खेल-1

दोस्तो, आपको याद होगा कि मैंने आपसे पिछली स्टोरी में आप लोगों से एक सलाह माँगी थी जिसके जवाब में मेरे पास बहुत सारी मेल आई, उन मेल में बहुत सारे सुझाव भी आए. आप सभी के सुझाव और आप आपके इस प्यार के लिए मैं आप सभी को दिल से धन्यवाद करता हूँ.


चलो दोस्तो, मैं आपका अधिक वक़्त ना खराब करते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ!

जैसा आपने मेरी एक कहानी >> सगे भाई बहन ग्रुप सेक्स के खेल में

में पढ़ा कि अग्रवाल साहब अपनी बहन पूजा गोयल को क्लब में देखकर काफ़ी हैरान हुए थे. तो हम लोगों के सामने एक गंभीर समस्या आ गई थी कि कैसे पूजा और अग्रवाल भाई बहन होते हुए सेक्स कर सकते हैं तो जैसे ही आप लोगों के सुझाव को ध्यान रखते हुए मिस पूजा गोयल ने अपने भाई के सामने एक शर्त रखी- आप मेरे भाई हैं लेकिन मैं आपके साथ बेइंसाफी नहीं कर सकती हूँ कि आप मुझे ना छुएं! मैं घर पर आपकी बहन हूँ, लेकिन यहाँ आप चाहो तो मुझे आप अपनी वाइफ भी बना सकते हो! लेकिन घर पर मैं आपकी बहन ही रहूँगी.
अग्रवाल साहब हाँ बोले!

पड़ोस की लड़की की कुँवारी चूत ली 

सबने अपने अपने जाम उठाए और पूजा के नाम लगाए. पहला जाम लगते ही पूजा बोली- इस खेल की शुरुआत मैं करूँगी अपने भाई की वाइफ बन कर!
और पूजा जल्दी से अपने भाई का लंड अपने मुँह में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी.
अग्रवाल साहब पूजा का सिर पकड़ कर अपने लंड पर दबाने लगे और बोले- ले चूस ले अपने भाई का लंड… उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकाल दे इसका सारा माल अपने मुँह में!

पूजा ने उनका लंड 8-10 मिनट तक चूसा और उनका पानी निकाल दिया, सारा माल खुद पी गई.
फिर पूजा ने अपने भाई को बोला- भाई जी, आओ अब तुम्हारी बारी है मेरी फाड़ने की… देखती हूँ कितना दम है मेरे भाई के लंड में!

कुछ देर मेहनत करके पूजा ने फिर से अपने भाई का लंड खडा किया और अग्रवाल ने अपना लंड अपनी बहन की फुद्दी में उतार दिया एक ही झटके में!
पूजा तो ऐसे उछली कि मानो जैसे लंड फुद्दी में नहीं गांड में डाल दिया हो! पूजा ने एकदम लंड को निकाल दिया अपनी फुद्दी से… बोली- भाई, आराम से डालो… आपकी बहन की नाजुक सी फुद्दी है, और मैं भाग थोड़े रही हूँ!
तो अग्रवाल मज़े लेते हुए बोला- पता चल गया कि तुम्हारे भाई के लंड में कितना दम है?
पूजा बोली- हाँ, पता चल गया! आराम से डालो और मारो मेरी फुद्दी!

गाण्ड मेरी पटाखा बहन बानू की (Gaand Meri Patakha Bahan Banu ki)

फिर से अग्रवाल साहब ने लंड अपनी बहन की चूत में डाला और दस मिनट तक लगातार बिना रुके बहन को चोदा और अपनी बहन पूजा को झड़वा दिया.
फिर अग्रवाल साहब ने बोला- मेरा भी होने वाला है पूजा, बोलो माल अंदर डालूं या मुँह में लोगी?
पूजा बोली- मुँह में लूँगी!
यह बोल कर उसने अपना मुख खोल दिया और अग्रवाल ने अपना लंड उसमें घुसा दिया. पूजा उनका सारा माल पी गई. आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
मेरे बहन गुड्डी के चूत में डाला (Mere Behen Guddi Ke Chut mein dala)

फिर सबने बारी बारी पूजा की चूत की ठुकाई की, पूरी रात उसकी फुद्दी के मज़े लिए और सुबह सब अपने अपने घर निकल गये.
लेकिन जाते जाते पूजा ने अग्रवाल साहब का एक बार फिर लंड चूसा और माल पिया, बोली- मेरी शर्त याद रखना!
तो अग्रवाल साहब बोले- ठीक है!

दोस्तो, आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी जिसमें एक भाई ने बहन को चोदा? मुझे मेल करके ज़रूर बतायें, मुझे आपके मेल्स का इंतज़ार रहेगा.
आज की और भी मजेदार कहानियां पढ़े....बस यह पर क्लिक करें...